पाठक नामा -

JUST ANOTHER BLOG

206 Posts

1915 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 2445 postid : 125

दो चेहरे एक साथ

Posted On: 8 Apr, 2011 Others में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

क्या अब यह साफ़ नहीं हो गया है की बाबा राम देव को आर एस एस का वरदहस्त प्राप्त है क्योंकि जब से बाबा राम देव ने अपनी अलग से पार्टी बनाने की घोषणा की है तभी से बी जे पी की बेचैनी बाद गई थी इसी लिए बी जे पी अध्यक्ष और आर एस एस प्रमुख उनके पास दौड़े चले गए और आखिर में बाबा राम देव को मना ही लिया की अभी नयी पार्टी बनाने की घोषणा नहीं करेंगे —- क्योंकि आज उनके हाथ आन्ना हजारे के रूप में जन आन्दोलन खड़ा करने वाला एक सशक्त हथियार मिल गया है यह हम नहीं कह रहे है यह बात आज अखबारों ने छापी है
रामदेव ने दिया हजारे को समर्थन
हरिद्वार: योग गुरु स्वामी रामदेव ने भ्रष्टाचार के खिलाफ अनशन पर बैठे अन्ना हजारे को समर्थन दिया है। कांग्रेस के खिलाफ लगातार हमला बोल रहे स्वामी रामदेव ने भाजपा को भी क्लीन चिट देने से इंकार कर दिया। उन्होंने कहा कि देश में कोई भी राजनीतिक दल पाक-साफ नहीं है। उन्होंने कहा कि वह राजनीति में नहीं आएंगे, लेकिन विकास की खातिर राजनीतिक हस्तक्षेप करने से नहीं चूकेंगे। गुरुवार की शाम पतंजलि योगपीठ में मीडिया से बातचीत में स्वामी रामदेव ने कहा कि भ्रष्टाचार के खिलाफ किसी भी तरह की मुहिम का पूरी निष्ठा के साथ समर्थन किया जाएगा। उन्होंने कहा कि भ्रष्टाचार के खिलाफ कठोर कानून बनाने व अमल में लाने की जरूरत है। भ्रष्टाचारियों को सजा-ए-मौत होनी चाहिए। भ्रष्टाचार को रोकने के लिए कानूनों में खामियां हंै और प्रभावशाली लोग आसानी से बच निकलते हैं। भाजपा से नजदीकी के सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि कोई भी दल पहले स्वयं का शुद्धिकरण कर पाक-साफ हो जाए, तो फिर किसी से उन्हें कोई परहेज नहीं है। कहा कि मौजूदा लोकपाल बिल में कई छेद हैं, जिसके लिए नए प्रावधान करना जरूरी है। संघ प्रमुख मोहन भागवत और भाजपा राष्ट्रीय अध्यक्ष नितिन गडकरी के पतंजलि आगमन के बारे में उन्होंने साफ किया कि भागवत का कार्यक्रम पूर्व निर्धारित था, जबकि गडकरी के आगमन का कार्यक्रम तय नहीं था। उन्होंने कहा कि इन दोनों लोगों ने उनकी राजनीति में आने के बारे में कोई चर्चा नहीं हुई है
आखिर रंग लाई दिग्गजों की मुहिम
देहरादून: आखिरकार राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ और भाजपा के शीर्ष नेतृत्व के प्रयास रंग ले ही आए। पिछले दो दिनों के दौरान पहले भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष नितिन गडकरी और फिर गुरुवार को संघ सर संघ चालक मोहन भागवत की स्वामी रामदेव से लंबी मीटिंग के बाद रामदेव मान ही गए कि वह राजनीति में प्रवेश नहीं करेंगे। भाजपा के लिए स्वामी रामदेव का यह फैसला खासा सुकूनभरा माना जा रहा है। मंगलवार से, जब देश की निगाहें जंतर-मंतर पर अन्ना हजारे के भ्रष्टाचार के खिलाफ अनशन पर लगी थीं, भाजपा और राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ ने स्वामी रामदेव को मनाने की मुहिम को अंजाम देना शुरू किया। दरअसल, स्वामी रामदेव जिस तरह के तेवर पिछले कुछ समय से अपनाए हुए हैं, उससे भाजपा ही नहीं कांग्रेस समेत तमाम सियासी दल भी पसोपेश में हैं। भ्रष्टाचार के मुद्दे पर लगातार मुखर रहे रामदेव अपने अनुयायियों की लंबी फौज और योग के जरिए विश्र्व स्तर पर पहचाने जाते हैं। इस नाते वह जो कुछ भी कहते-करते हैं उसके निहितार्थ खासे महत्वपूर्ण बन जाते हैं। स्वामी रामदेव द्वारा राजनीति में प्रवेश और अलग पार्टी बनाए जाने के ऐलान के बाद से ही राष्ट्रीय स्तर पर सियासी हलकों में खासी बेचैनी नजर आई है। हालांकि बाबा का भाजपा के प्रति रुख अपेक्षाकृत नरम रहता आया है लेकिन इसी कारण उनके राजनीति में उतरने के ऐलान से भाजपा ही सबसे ज्यादा असहज महसूस हुई। ऐसा इसलिए, क्योंकि चुनावी राजनीति में इन हालात में भाजपा को कही न कहीं बाबा से भी मुकाबला करना पड़ता, जो पार्टी कतई नहीं चाहती। इस संभावित असहज स्थिति को भांपकर भाजपा और संघ एक साथ सक्रिय हुए
MRT7drn3-1_1302222446 mohan bhagwat
अब क्या इन्ही जज्बातों से काले धन के खिलाफ जंग लड़ी जायगी –शायद नहीं क्योंकि ऐसे कोई भी राजनितिक पार्टी नहीं है जिसके नेताओं के पास काला धन न हो सभी हमाम में नंगे की तरह से हैं अर्थात चोर चोर मौसेरे भाई ?

| NEXT

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

3 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

vikas kumar bazidpur distt baghpat के द्वारा
July 4, 2014

कांग्रेस को हमने १० साल दिए पर मोदी को एक महीना देने मैं ही हड़बड़ा रहे हैं सब लोग उन्हें जज करने मैं लग गए मै पूछता हूँ अगर ऐसा कांग्रेस की सरकार मे किया होता तो आज हमारा देश इस इस्थिति मैं नहीं होता उनोहने जनता से ६० महीने मांगे हैं और जो जनता अब हड़बड़ा रही है उन्होंने मोदी को वोट किया जो कबाड़ा कांग्रेस छोड़ के गयी हैं उसे साफ़ करने मैं थोड़ा वक़्त तो चाहिए धीरज रखिये वो आपके साथ छल नहीं करेंगे

Atul के द्वारा
January 13, 2012

राहुल गांधी आज कल य़ू॰पी॰ की जनता से पाँच साल सरकार चलाने का मौका माँगते फिर रहे है। राहुल जी जनता अब इतनी बेवकूफ नही है जो चोरो के हाथ मे अपने को सौप दे।                                                             अतुल कौशिक                                                             शामली

Atul के द्वारा
January 13, 2012

बाटला हाउस का जिऩन एक बार फिर बोतल सॆ निकला है। केऩद् सरकार अपनी निमन सोच के कारण इसका फाय़दा आने वाले चुनाव मे उठाना चहाती है लेकिन जनता सब जानती है          अतुल विक्म कौशिक


topic of the week



latest from jagran